sMk240
21.3K Followers51 Following

TakaTak ID: smk240

हो मुकम्मल हर दास्तां ये मुमकिन तो नहीं...! कुछ किस्से अधूरे भी लाजवाब होते हैं...!